सादिओ माने की जीवनी | Sadio Mane’s Life Story In Hindi

जो सिरफिरे होते हैं वही इतिहास लिखते हैं, समझदार लोग तो सिर्फ उनके बारे में पढ़ते हैं|

@successmatters

अफ्रीका महाद्वीप के एक छोटे से देश सेनेगल के एक छोटे से गरीब परिवार में जन्मे Sadio Mane के जीवन पर आधारित यह Sadio Mane’s life story in Hindi आपके जीवन व सोचने के नजरिये को बदल सकती है।

आप चाहे महिला हो या पुरुष, यह success story in Hindi आपके लिए एक Life Changing Story साबित हो सकती है।

आपको इस मोटिवेशनल कहानी इन हिंदी से बहुत कुछ सीखने को मिलेगा और आप अपनी जिन्दगी के प्रति Motivate व inspire हो जाओगे।

Famous Football Player Sadio Mane’s life story in Hindi

Sadio Mane’s life story in Hindi

एक महान फुटबॉल खिलाड़ी सादिओ माने की मोटिवेशनल कहानी।

दुनिया में ऐसे बहुत कम लोग हैं जो बहुत ज्यादा गरीबी से निकल कर गए और बाद में अपनी मेहनत और लगन से उन्होंने बहुत पैसा कमाया। इन्हीं में से कुछ लोग ऐसे भी हुए हैं जिन्होंने चाहे जितना पैसा, धन दौलत, शोहरत हासिल कर ली लेकिन वे अपने गरीबी के दिनों को कभी नहीं भूले।

कुछ लोगों ने अपने गरीबी के दिनों की कुछ खास चीजों को अपने पास संभाल कर रखा तथा कुछ ने इन दिनों की अपनी कुछ ख़ास यादों को और जब वे इन चीजों को या इन बातों को याद करते, तो इन्हे अपने गरीबी के वही दिन याद आ जाते और वे दोबारा से कुछ करने की एक नई प्रेरणा और नए जोश व जज्बे से भर जाते हैं।

अपने इस ब्लॉग में मैं आपको एक ऐसे शख्स के बारे में बताने जा रहा हूं जिन्होंने बचपन में बहुत ज्यादा गरीबी देखी, हालातों के थपेड़े खा कर बड़े हुए और आज वे एक जाने-माने फुटबॉल खिलाड़ी हैं, जो हर हफ्ते करोड़ों डॉलर कमाते हैं।  

मैं बात कर रहा हूं सादिओ माने की। सादिओ माने इंग्लैंड के एक बहुत महंगे फुटबॉल क्लब लिवरपूल फुटबॉल क्लब के खिलाड़ी है। आज वे हफ्ते के करोड़ों कमाते हैं। लेकिन इतनी दौलत शोहरत हासिल करने के बाद भी वह एक बहुत ही सादा जीवन जीते हैं।

Sadio Mane के बारे में।

  • Full Name – सादिओ माने ( Sadio Mane )
  • Sadio Mane का जन्म कब और कहाँ हुआ था – 10 अप्रैल 1992 में अफ्रीका के Sedhjou, Senegal में।
  • Sadio Mane की नागरिकता – अफ्रीकी देश शेनेगल।
  • Sadio Mane कौन है – एक फुटबॉल खिलाडी।
  • Sadio Mane किस फुटबॉल टीम के लिए खेलते है – सदीओ माने  प्रीमियर लीग क्लब लिवरपूल और सेनेगल की राष्ट्रीय टीम के लिए एक विंगर के रूप में खेलते है। लिवरपूल फुटबॉल क्लब इंग्लैंड के लिवरपूल में एक पेशेवर फुटबॉल क्लब है , जो इंग्लिश फुटबॉल के शीर्ष स्तरीय प्रीमियर लीग में प्रतिस्पर्धा करता है ।
  • Sadio Mane का Religion क्या है – मुस्लिम।
  • Sadio Mane की salary कितनी है£5,200,000 ( लगभग 45.4 करोड़ रूपए ) वार्षिक और 87.4 लाख साप्ताहिक ( £100,000 )।
  • Sadio Mane की wife/ Girlfriend का क्या नाम है – सदीओ माने ने अभी तक शादी नहीं की है।
  • Sadio Mane की age कितनी है – 28 साल ( 10 अप्रैल 2020 के अनुसार )
  • Sadio Mane की Height कितनी है – 5 फ़ीट 9 इंच।
  • Sadio Mane की टोटल Networth कितनी है – 20 मिलियन डॉलर्स लगभग 1.5 अरब रूपए।

सादिओ माने ने दिया मानवतावादी सोच का परिचय।

सादिओ माने के पास ना तो कोई महंगा घर है और ना ही कोई महंगी गाड़ी। वे अब भी एक टूटा हुआ मोबाइल फोन यूज करते हैं। जब इस टूटे फोन के बारे में एक बार एक पत्रकार ने मजाक करते हुए सादिओ से पूछा तो उन्होंने कहा कि मैं इसे ठीक करवा लूंगा।

लेकिन जब पत्रकार ने सादिओ से कहा कि आप को ठीक करवाने की क्या जरूरत है, आप तो नया ले सकते हैं। तो इसके जवाब में सादिओ ने कहा कि खरीदने को तो मैं सैकड़ों आईफोन, महंगी महंगी गाड़ियां, प्राइवेट जेट प्लेन, डायमंड घड़ियां और भी बहुत कुछ खरीद सकता हूं।

लेकिन मुझे इन की क्या जरूरत है। मुझे यह सब नहीं चाहिए। मैंने गरीबी देखी है। मैं पढ़ने के लिए स्कूल नहीं जा पाया था। इसलिए मैंने अपने देश में स्कूल बनवाए हैं। फुटबॉल खेलने के लिए मेरे पास संसाधन नहीं होते थे। इसलिए मैंने बच्चों के लिए फुटबॉल स्टेडियम बनवाए हैं।

उन्होंने अपने संघर्ष के दिनों को याद कर कहा कि बचपन में मेरे पास खेलने के लिए जूते नहीं थे, पहनने के लिए अच्छे कपड़े नहीं होते थे, खाने को खाना नहीं होता था। लेकिन जब आज मेरे पास सब कुछ है तो क्या मैं उसका दिखावा करूं। मैं यह सब अपने लोगों के साथ बांटना चाहता हूं। इस तरह से सादिओ माने ने अपनी मानवतावादी सोच का परिचय दिया।

सादिओ माने की पारिवारिक पृष्ठ्भूमि।

सादिओ माने अफ्रीकी देश सेनेगल के एक छोटे से गांव के रहने वाले हैं। यह गांव इतना पिछड़ा हुआ था, कि यहां ना ही कोई स्कूल था, ना ही कोई अस्पताल और ना ही सुख सुविधा की कोई भी अन्य वस्तु।

सादिओ के पिता बहुत गरीब थे और घर में खाने पीने की चीजों का हमेशा अभाव रहता था। कभी-कभी तो मजबूरी में भूख के कारण उन्हें मिट्टी खाने की नौबत आ जाती थी। इन हालातों में सादिओ माने ने अपना बचपन गुजारा है।

सादिओ माने का फुटबॉल के प्रति जूनून।

बचपन से ही सादिओ माने ( Sadio Mane ) को फुटबॉल खेलने का बड़ा शौक था। फुटबॉल खेलना उन्हें अपनी जान से भी प्यारा था। लेकिन जहां खाने के लाले पड़े हो तो वहां शौक कहां पूरे होंगे और इतने गरीब लड़के को कौन आगे लाता, कौन ट्रेनिंग देता।

लेकिन सादिओ माने ने खुद से वादा किया था कि भले ही यह वक्त उसका नहीं है। लेकिन एक दिन आएगा जब पूरी दुनिया उन्हें उनके नाम से जानेगी। वह खुद अपने गुरु बने। ठोकरे खा खाकर उन्होंने फुटबॉल खेलना सीखा। लेकिन उनके हौसले ने, उनके जुनून ने उन्हें कभी पीछे नहीं हटने दिया।

एक बार उन्हें पता चला कि सेनेगल की राजधानी में फुटबॉल के ट्रायल हो रहे हैं, तो उन्होंने वहां जाने का फैसला किया। लेकिन उनके पास इतने पैसे कहां थे कि वह वहां तक जा पाते। लेकिन हिम्मत बहुत थी और एक 12 साल के लड़के के लिए अपने सपने के लिए इतना जुनून, इतना जज्बा होना बहुत बड़ी बात थी।

सादिओ माने ( Sadio Mane ) 160 किलोमीटर दौड़ते हुए अपने देश की राजधानी पहुंचे, जहां फुटबॉल के लिए ट्रायल होनी थी। जब कोच ने सादिओ को उस हालत में देखा तो उन्हें विश्वास नहीं हुआ कि यह लड़का फुटबॉल खेलने के लिए आया है। क्योंकि सादिओ माने ( Sadio Mane ) के जूते फटे हुए थे उनके कपड़े फटे हुए थे। सभी उसका मजाक उड़ा रहे थे।

कोच ने सादिओ माने ( Sadio Mane ) से कहा कि बच्चे तुम कैसे खेलोगे, तुम्हारे तो जूते फटे हुए हैं। अपने आसपास देखो सभी कितना तैयार होकर आए हैं। इसके जवाब में सादिओ ने कहा कि सर आप मुझे सिर्फ 5 मिनट का मौका दीजिए। मैं इन 5 मिनट में ही साबित कर दूंगा कि वास्तव में कौन तैयार होकर आया है।

कोच ने उसकी बात मान ली। सादिओ माने ( Sadio Mane ) को 5 मिनट का समय दिया गया। लेकिन 5 मिनट से पहले ही सादिओ ने यह साबित कर दिया कि वह सिर्फ फुटबॉल खेलने के लिए ही बना है। 5 मिनट में ही सादिओ ने सबको आश्चर्यचकित कर दिया था।

सादिओ माने के पिता की मौत।

कोच ने सादिओ से कहा कि फुटबॉल के लिए अगर तुम्हारे अंदर इतना ही जुनून रहा तो एक दिन तुम दुनिया के जाने-माने फुटबॉलर बनोगे और दुनिया तुम्हें तुम्हारे नाम से जानेगी। कोच की यह बात सुनकर सादिओ बड़ा खुश हुआ।

वह यह बात जल्दी से जाकर अपने पिता को बताना चाहता था। उनके पिता ही एक ऐसे व्यक्ति थे जो उन्हें हर समय सपोर्ट करते थे और फुटबॉल खेलने के लिए उन्हें हमेशा प्रेरित करते रहते थे। जब सादिओ अपने गांव पहुंचा तो उन्हें पता चला कि हार्ट अटैक की वजह से उनके पिता की मौत हो चुकी थी।

अपने पिता की मौत की खबर ने उन्हें अंदर तक झकझोर दिया था। उनकी खुशी उनके मन में ही दफन होकर रह गई। लेकिन 12 साल का यह लड़का किस को अपने दुख सुनाता, किसके सामने अपना दुखड़ा रोता। अपने पिता के बिना वह अधूरा सा हो गया था।

सादिओ माने ने किया अपने जूनून की हदों को पार।

जब उन्हें पता चला कि जब उनके पिता को हार्ट अटैक आया तो आस-पास गांव में न तो कोई डॉक्टर था, और ना ही उनके परिवार के पास इतने पैसे थे कि उन्हें शहर के अस्पताल ले जाते और इस वजह से उनके पिता की मौत हो गई। इस बात का उन्हें बहुत दुःख हुआ।

उन्होंने महसूस किया को गरीब होना भी अपने आप में एक श्राप है। अब वे अपने इन हालातों को बदलना चाहते थे। उनका जीवन में कुछ बनने व कुछ करने का जज्बा आग की तरह धधक रहा था । जो सपना उनके पिता ने उन्हें दिखाया था, वे उसे पूरा करना चाहते थे और उन्होंने खुद से भी तो यह वादा किया था कि एक दिन लोग मुझे मेरे नाम से जानेगें। फिर क्या था, उन्होंने अपने आप ही अपने आंसुओं को पोंछा, दिन रात मेहनत की और अपने जुनून की हदों को पार कर दिया।

बने एक महान फुटबॉलर।

फुटबॉल के प्रति उनके जज्बे को देखकर फ्रांस के एक बहुत बड़े फुटबॉल क्लब के लिए उन्हें चुन लिया गया। फिर क्या था कामयाबी की पहली सीढ़ी उसने हासिल कर ली थी और सादियो को पता था कि इसके सबसे ऊंचे पायदान पर कैसे पहुंचना है।

वक्त के साथ सादिओ माने ( Sadio Mane ) ने अपने हुनर को तराशना जारी रखा और वह दिन आ गया था जब दुनिया के महंगे महंगे फुटबॉल क्लब भी सादिओ को उनके फुटबॉल क्लब का हिस्सा बनते देखना चाहते थे और इसके लिए वे उन्हें मुंह मांगे पैसे देने को भी तैयार थे।  

सादिओ माने की खेल उपलब्धियां।

अपने शुरुआती दिनों में उन्होंने ऑस्ट्रिया, फ्रांस व इंग्लैंड के बड़े-बड़े फुटबॉल क्लब के लिए फुटबॉल खेला। सादिओ ने Southampton Football Club के लिए खेलते हुए 2 मिनट 56 सेकंड में लगातार तीन गोल करने का वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया है। जो आज तक कोई नहीं तोड़ पाया। इसके अलावा भी उन्होंने बहुत सारे रिकार्ड अपने नाम किए हैं।

आज सादिओ दुनिया के सबसे महंगे फुटबॉल क्लब में से एक लिवरपूल फुटबॉल क्लब के लिए खेलते हैं। सादिओ माने एक दिन का 19 लाख 62 हजार रुपए कमाते हैं। सादिओ माने को 2019 के लिए अफ्रीका का सर्वश्रेष्ठ फुटबॉलर भी चुना गया है।

सादिओ माने के इस जज्बे को सलाम है। सही में यह सादिओ माने ( Sadio Mane ) की मेहनत व लगन का नतीजा ही है, जो आज वे इस मुकाम पर पहुंचे हैं। वास्तव में आप भी अपने दिल से पूछे कि क्या आप में वह जज्बा, वह जुनून है। सफलता कीमत मांगती है और सादिओ ने वह कीमत अदा की और आज उन्हें वह सब मिला जिसके वह हकदार थे।

Sadio Mane’s life story in Hindi

इनके बारे में भी पढ़ें -:

आपको मेरा यह ब्लॉग ‘ एक महान फुटबॉल खिलाडी की मोटिवेशनल कहानी इन हिंदी | Sadio Mane’s life story in Hindi‘ कैसा लगा, मुझे कमेंट करके बताएं।

और अगर आपको मेरा यह ब्लॉग ‘Sadio Mane’s life story in Hindi‘ अच्छा लगा हो तो अपने दोस्तों को भी शेयर करें

ताकि जो लोग जीवन में हार मान कर बैठ गए है, वो इस Sadio Mane’s life story in Hindi से inspire हो सके, motivate हो सके।

मेरे फेसबुक पेज पर जाकर इसे लाइक व अपने दोस्तों के साथ शेयर करें, लिंक नीचे दे दिया गया है।

https://www.facebook.com/successmatters4me-113401247074883

Tags -:

Sadio Mane’s Life Story In Hindi, Sadio Mane Life Story In Hindi, Sadio Mane Ki Jivani Hindi Mein, Sadio Mane Ka Jivan Parichay, Sadio Mane Life History In Hindi,

Add a Comment

Your email address will not be published.