जानिए अमीर कैसे बने | Rich Dad Poor Dad Book Summary in Hindi

अक्सर, जितना अधिक पैसे आप कमाते हैं उतना अधिक खर्च कर देते हैं;

इसीलिए अधिक पैसे आपको अमीर नहीं बनाते- संपत्ति आपको अमीर बनाती है।

Robert Kiyosaki

दोस्तों अमेरिका के महान लेखक और धन प्रबंधक रोबर्ट कियोसाकि की बेस्टसेलिंग बुक Rich Dad Poor Dad पर आधारित यह ब्लॉग ‘जानिए अमीर कैसे बने | Rich Dad Poor Dad Book Summary in Hindi‘ आपके जीवन व सोचने के नजरिये को बदल सकती है।

आप चाहे महिला है या पुरुष, यह Rich Dad Poor Dad Book Summary in Hindi आपके लिए एक Life Changing Book Summary साबित हो सकती है।

इस Book Summary in Hindi में आपको लेख़क के उन प्रेरणादायक विचारों के बारे में पढ़ने को मिलेगा जिसमे ‘Robert Kiyosaki’ ने पैसों और निवेश के उन महान रहस्यों को उद्घाटित किया है, जिसकी मदद से उन्होंने खुद भी वित्तीय स्वतंत्रता हासिल की और सैकड़ो दूसरे लोंगो को भी ऐसा करने में मदद की।

आपको इस बुक समरी से बहुत कुछ सीखने को मिलेगा और आप अपनी जिन्दगी के प्रति Motivate व inspire हो जाओगे।

Rich Dad Poor Dad Book Summary in Hindi

Rich Dad Poor Dad Book Summary in Hindi
Rich Dad Poor Dad Book Summary in Hindi

जानिए अमीर कैसे बने | रिच डैड पुअर डैड बुक समरी हिंदी में

दुनिया के अधिकतर लोग अपने डर के कारण पहले खूब पढ़ाई करते हैं, अच्छी सी नौकरी ढूंढते हैं और फिर सारी उम्र वह नौकरी करते हुए निकाल देते हैं। जब उनकी सैलरी बढ़ती है तो वह अपने खर्चे भी बढ़ा लेते हैं और इस तरह उसकी आय पर इनकम टैक्स भी बढ़ जाता हैं। व्यक्ति अपने खर्चों को पूरा करने के लिए और ज्यादा मेहनत करता है और अपनी इनकम को बढ़ा लेता है। लेकिन जब उसकी इनकम बढ़ती है तो उसके खर्चें भी बढ़ जाते है और सारी उम्र वह इसी चूहा दौड़ में लगा रहता है। 

इस चूहा दौड़ से निकलने के लिए Robert Kiyosaki ने अपनी बुक ‘Rich dad and Poor dad’ में कुछ उपाय बताए हैं। ‘Robert Kiyosaki’ एक अमेरिकी लेखक और Rich Dad कंपनी के मालिक है जिन्होंने कई सारी बेस्ट सेलिंग बुक लिखी है।

रोबर्ट कियोसाकि ने अपनी इस बुक RICH DAD POOR DAD में बताया है कि उनके दो पिता थे। एक उनके खुद के पिता जिन्हें उन्होंने पुअर डैड कहा है। जबकि दूसरे उनके दोस्त माइक के पिता जिन्हें उन्होंने रिच डैड कहा है। इन दोनों ही पिताओं का उनके जीवन पर गहरा प्रभाव रहा है।

एक तरफ जहां उनके पुअर डैड जो उनके रियल पिता थे, बहुत ज्यादा पढ़े लिखे थे। लेकिन पैसे के मामले में हमेशा फटे हाल रहते थे। वह हर चीज के लिए यही बोलते थे कि हम इसे खरीद नहीं सकते हैं या इसे खरीदने की हमारी औकात नहीं है। वे ‘Robert Kiyosaki’ को हमेशा यही समझाते रहते थे की अगर अच्छी नौकरी पानी है तो उसके लिए खूब पढ़ाई करनी पड़ेगी, पैसा कमाने के लिए कड़ी मेहनत करनी पड़ती है, पैसे पेड़ पर नहीं उगते वगैरह – वगैरह। 

जबकि दूसरी तरफ उनके रिच डैड ( उनके दोस्त माइक के पिता ) ज्यादा पढ़े-लिखे नहीं थे, लेकिन पैसे के मामले में काफी अमीर थे। किसी चीज को खरीदने के लिए वे यह नहीं बोलते थे कि मैं इसे खरीद नहीं सकता हूं, बल्कि इसकी बजाय वे कहते थे कि मैं इसे कैसे खरीद सकता हूं। 

लेखक ‘Robert Kiyosaki’ कहते हैं कि 9 साल की उम्र से ही उन्होंने अपने रिच डैड की बातों को मानना शुरू कर दिया था। उनके रिच डैड के अनुसार जब हम यह कहते हैं कि मैं इस चीज को नहीं खरीद सकता तो हमारा दिमाग काम करना बंद कर देता है तथा हम उसके बारे में सोचना छोड़ देते हैं। जबकि दूसरी तरफ जब हम अपने आप से यह कहते हैं कि मुझे यह चीज खरीदनी है लेकिन मैं इसे कैसे खरीद सकता हूं, तो यहां हमारा दिमाग काम करना शुरू कर देता है। हमारा दिमाग उन तरीकों के बारे में सोचना शुरु कर देता है जिन्हें अपनाकर हम उस चीज को हासिल कर सकते हैं। 

मैं इस ब्लॉग ‘जानिए अमीर कैसे बने | Rich Dad Poor Dad Book In Hindi‘ में रोबर्ट कियोसाकि के रिच डैड के द्वारा बताए उन तरीकों के बारे में बताने जा रहा हूं, जिन्हें अपनाकर रोबर्ट कियोसाकि ने फाइनेंशियल फ्रीडम हासिल की। 

लेखक ‘Robert Kiyosaki’ कहते हैं की दुनिया में अधिकतर लोग पैसे के लिए काम करते हैं। इसके लिए खूब पढ़ाई करते हैं। अच्छी नौकरी ढूंढते हैं। जब उनको अच्छी नौकरी मिल जाती है तो अपनी इनकम बढ़ाने के लिए दिन रात मेहनत करते हैं। लेकिन उनकी इनकम कितनी भी बढ़ जाए वे कभी अमीर नहीं हो पाते। क्योंकि जब उनकी इनकम बढ़ती है तो वे अपने खर्चों को भी बढ़ा लेते हैं। 

जब व्यक्ति की इनकम बढ़ती है तो उसकी इच्छाएं भी बढ़ जाती है और अपनी इच्छाओं को पूरी करने के लिए वह ज्यादा मेहनत करता है और अपनी इनकम को और बढ़ा लेता है, जिसके साथ उसके खर्चे भी बढ़ जाते हैं और यह चूहा दौड़ पूरी उम्र चलती रहती है। अपने डर के कारण व्यक्ति इस चूहा दौड़ से कभी बाहर नहीं निकल पाता और वह यही सोचता है कि अगर वह नौकरी नहीं करेगा तो उसकी जिंदगी सही से नहीं चल पाएगी। इच्छा और डर इन्हीं दो इमोशंस ( Emotions ) की वजह से वह पूरी उम्र ऐसे ही कमाता रहता और कभी भी इस चूहा दौड़ से नहीं निकल पाता। 

रोबर्ट कियोसाकि कहते हैं कि दुनिया में अधिकतर लोग इसलिए अमीर नहीं बन पाते, क्योंकि उन्हें संपत्ति ( Assets ) व देनदारी ( Liabilities )  में अंतर नहीं पता होता। दुनिया में अधिकतर लोगों के पास जब पैसा आता है तो वे उस पैसे से घर खरीदते हैं, गाड़ी खरीदते हैं, फर्नीचर खरीदते हैं और इसी तरह की सुख सुविधा की अन्य चीजें खरीदते हैं और कहते हैं कि हम अमीर हो गए, लेकिन उनका यह सोचना बिल्कुल गलत है। क्योंकि उन्होंने कोई संपत्ति नहीं बल्कि देनदारी खरीदी है। एक संपत्ति और देनदारी में यही अंतर है कि एक संपत्ति वह होती है जो आपकी जेब में पैसा डालती है जबकि एक देनदारी वह होती है जो आपकी जेब से पैसा निकालती है। 

दुनिया के अधिकतर लोग घर, गाड़ी व फर्नीचर को संपत्ति मानने की गलती कर बैठते हैं। लेकिन जब आप इन्हें अपने व्यक्तिगत उपयोग के लिए प्रयोग कर रहे हैं तो यह एक देनदारी है, संपत्ति नहीं। क्योंकि आपको घर में रहने के लिए उसका बिजली बिल, पानी बिल, मरम्मत वगैरह का खर्च तथा इसी तरह के अन्य खर्च भी उठाने पड़ते हैं।

इसी तरह यदि आप अपनी गाड़ी को अपने खुद के उपभोग के लिए प्रयोग कर रहे हैं तो उसके भी कई प्रकार के खर्चों को आपको वहन करना पड़ता है जो आपकी जेब से पैसा निकालते हैं। जबकि दूसरी तरफ अगर आप घर को किराए पर दे देते हो तो उससे आपको हर महीने एक्स्ट्रा इनकम मिलती रहती है जो आपकी जेब में पैसा डालती है। 

ऊपर कही गई बातों को पढ़कर शायद आप कह सकते है की तो क्या हम घर, गाड़ी या फिर सुख सुविधा की कोई चीज न ख़रीदे। तो इसके जवाब में लेखक रोबर्ट कियोसाकि कहते है की आप इन चीजों को खरीदों, लेकिन शुरुआत में नहीं बल्कि बाद में, जब आपकी सम्पतियों से पैसा मिलने लग जाए। अधिकतर लोग अपनी नौकरी को संपत्ति मान लेते हैं और वे सोचते हैं कि इससे हमें इनकम मिल रही है तो यह हमारे लिए एक संपत्ति का साधन है। जबकि संपत्ति वह होती है जिसमें आपको बिना काम करें भी इनकम मिलती रहे। 

इसलिए लेखक रोबर्ट कियोसाकि कहते हैं कि जब किसी गरीब या मिडिल क्लास व्यक्ति को पैसा मिलता है तो वे सबसे पहले अपने सुख सुविधा की चीजें खरीदते हैं। जबकि दूसरी तरफ एक अमीर व्यक्ति उस पैसे से और अधिक संपत्ति खरीदता है ताकि उसके पास और अधिक पैसा आ सके। 

एक गरीब या एक मिडिल क्लास व्यक्ति सारी उम्र पैसे के लिए काम करता है जबकि एक अमीर व्यक्ति सारी उम्र पैसे से अपने लिए काम करवाता है। जब अमीर व्यक्ति के पास अपनी संपत्तियों से पैसा आता है, तो वह उन्हें सुख सुविधा की चीजें खरीदने पर बर्बाद नहीं करता। बल्कि वह उस पैसे को दोबारा से निवेश कर देता है। वह उस पैसे से रियल एस्टेट प्रॉपर्टी खरीदता है, बड़ी-बड़ी कंपनियों के शेयर खरीदता है, म्यूच्यूअल फंड्स, बॉन्ड्स खरीदता है या इसी तरह के अन्य विकल्पों में निवेश कर देता है। 

ऐसा नहीं है कि अमीर व्यक्ति अपने लिए सुख सुविधा की वस्तुएं नहीं खरीदते, बल्कि वे इस तरह की चीजों को सबसे बाद में खरीदते हैं। जब उनके पास पैसा आता है तो सबसे पहले उस पैसे से वह इस तरह की संपति खरीदते हैं, जो उनको और ज्यादा पैसा दे सके और जब उन्हें अपनी इन संपत्तियों से पैसा मिलने लगता है तो उस पैसे में से कुछ को तो दोबारा दूसरी संपत्ति खरीदने में निवेश कर देते हैं, जबकि बाकी पैसे से अपने लिए सुख सुविधा की वस्तुएं खरीद लेते हैं। 

इसलिए अमीर व्यक्ति बनने के लिए हमें ज्यादा से ज्यादा संपत्तिया इकट्ठे करने की जरूरत है, ना की देनदारी। जब हम ज्यादा से ज्यादा संपत्ति इकट्ठी करते हैं तो उन संपत्तियों से हमें एक्स्ट्रा इनकम मिलने लगती है और हम अमीर होने लगते हैं।

जब भी हमें सैलरी या अन्य माध्यम से पैसा मिलता है तो सबसे पहले बिना कोई खर्चा किए उसका कुछ हिस्सा ऐसी जगह निवेश कर दे जहां से आपको कुछ एक्स्ट्रा इनकम मिलती रहे। आप इस पैसे से रियल एस्टेट प्रॉपर्टी खरीद सकते हैं, शेयर मार्केट में निवेश कर सकते हैं, म्यूच्यूअल फंड खरीद सकते है या फिर किसी भी ऐसी जगह निवेश कर सकते है, जहां से आपको साल का कम से कम 8 से 10 प्रतिशत के आसपास रिटर्न मिलता रहें। 

जब आपको अपनी इस संपति से एक्स्ट्रा इनकम मिलनी शुरू हो जाती है तो उस पैसे को अपनी सुख सुविधा की चीजों को खरीदने पर बर्बाद ना करें बल्कि उस पैसे को दोबारा से निवेश कर दे। जब आप लगातार कई सालों तक ऐसा करते रहते हैं तो एक दिन आपके पास इतना पैसा होगा कि आप उस पैसे से अपनी सुख सुविधा की चीजें भी खरीद सकेंगे।

अगर आप जानना चाहते है की 2022 में निवेश के सबसे बेहतर विकल्प क्या है तो आप मेरी यह ब्लॉग पोस्ट पढ़ है। https://successmatters.in/2020/10/29/money-investment-tips-in-hindi/

Rich Dad Poor Dad Book Summary in Hindi

इनके बारे में भी पढ़ें -:

Read More -:

आपको मेरा यह ब्लॉग ‘Rich Dad Poor Dad Book Summary in Hindi‘ कैसा लगा, मुझे कमेंट करके बताएं।

और अगर आपको मेरा यह ब्लॉग ‘जानिए अमीर कैसे बने | Rich Dad Poor Dad Book Summary in Hindi‘ अच्छा लगा हो तो इसे अपने दोस्तों को भी शेयर करें।

ताकि जो लोग जीवन में कुछ करना  चाहते है, कुछ बनना चाहते।  लेकिन जीवन की मुसीबतों के कारण हार मान कर बैठ गए है वे इस Rich Dad Poor Dad Book Summary in Hindi से inspire हो सके, motivate हो सके।

 मेरे फेसबुक पेज पर जाकर इसे लाइक करें, लिंक नीचे दे दिया गया है।

https://www.facebook.com/successmatters4me-113401247074883

Tags

Rich Dad Poor Dad In Hindi, Rich Dad Poor Dad Book In Hindi, Rich Dad And Poor Dad In Hindi, Robert Kiyosaki Books In Hindi, Rich Dad Poor Dad Book Price In Hindi

One Comment

Add a Comment

Your email address will not be published.